चलो पहाड़ बुला रहा है

चलो पहाड़ बुला रहा है।

यहाँ पग प्रयाण को तत्पर
वहाँ खड़ा वो दुर्गम भूधर
चुनौती दे क्या चिढ़ा रहा है?
चलो पहाड़ बुला रहा है।

छोटे-लंबे कदम बढाकर
पादप-पाहन पे धूल उडाकर
पहुँचना जहाँ वो श्रृंग खड़ा है
देखें हम हैं या तुंग बड़ा है

उत्थान-अवसान की राहें लेते
कभी चट्टान को गलबाहे दैतै

बस एक बात ही सुनते जाना
चलो पहाड़ बुला रहा है।

कहीं काला वो महीधर कराल
झाड़ियों का कहीं विषम जाल
कटी खाँचें कहीं पग धरने को
जमी झाड़ें कहीं पकड़ने को

कहीं प्रकृति का मित्रसम व्यवहार
मजाक उड़ाती कहीं करे वो प्रहार

इन सबके बीच बस एक आवाज
चलो पहाड़ बुला रहा है।

ऊर्ध्वागमन रक्तचाप बढ़ाते
फेफड़े भी अपनी सीमा पाते
स्वेद-युक्त शरीर हो जाता
टखना मानो उत्तर दे जाता

सांसें भले ही फूले निरंतर
मन वापस आने को तत्पर

मनाना खुद को यह कहकर
चलो पहाड़ बुला रहा है।

चोटी पर कदम जड़कर
जब ऊपर उठ पड़ेगा भाल
सहलाएगी स्वर्णिम किरणें,
मुक्त हवा छुएगी गाल

विस्तृत विहंगम दृश्य देखकर
मन बस ये करेगा मलाल

साधु! सुन ली वो पुकार
चलो पहाड़ बुला रहा है।

On demand from my Toastmaster club, I am tranlsating (though not verbatim) this poem in English:

Oh! The peaks are calling

Come, feel the beauty present
In ensuing such tough a tiff
Trekker eager to walk the talk
Faces furious challenging cliff

Taking strides long and short
Caressing the flora and the rocks
to reach the place from where
The peak looks down and mocks

While the ridge you ascend
and dead rocks you befriend

Listen to solo singular song
“Oh! The peaks are calling”

Let the hill be a scare
Let the bushes not be fare
Find a place to hold the foot
With the hands hold some root

let the nature love or hate
be aware oh dear mate

Listen to the same old chant
“Oh the peaks are calling”

You may feel limiting lungs
blood may shoot up in the vein
The skin may shine in sweat
The knees may be going in vain

heavy breathes you may seek
Air may make mind so meek

Focus on just one voice alone
“Oh! The peaks are calling”

When the summit you reach
And hold the head hale and high
golden rays would touch the eyes
breeze would caress and pass by

seeing the majestic view ahead
the mind would sure claim aloud

Ahoy! Happy that I heard the cry
“Oh! The peaks are calling”

Cheap Oakley Twenty

चलो पहाड़ बुला रहा है | Prashant

Post new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.

Theme by Danetsoft and Danang Probo Sayekti inspired by Maksimer