कंक्रीट का जंगल

एक जंगल है यहाँ

पर यहाँ पेड़ नहीं हैं
ना पौधे,
ना कंटीली झाड़ियाँ
या उलझती लताएँ ही ।

पर एक दलदल है
जो नहीं बना है गर्द से
पानी या पंक से
इसका सृजन हुआ है -
कहीं मजबूत कंक्रीट से,
सिमेंट, पत्थर और ईंट से ।

मिट्टी के बने दलदल से
निकलना आसान है,
बस चाहिए -
एक मजबूत लता और
उस पार खड़ा कोई,
जो अड़िग हो,
कटिबद्ध हो,
और हो तत्पर।

पर यहाँ लताएँ नहीं दीखती,
और कंक्रीट की दीवार के पार
कोई खड़ा ना हो शायद
या हो भी तो
उसकी आवाज़ नहीं आती।

शायद वह भी चुप है
अड़िग ना सही,
कटिबद्ध तो है,
तत्पर तो है
पर चुप है।

या शायद बोल रहा है
वह, पर,
कंक्रीट के पार आवाज,
बड़ी क्षीण-सी आती है,
अगर सुन सको तो।।

Add new comment

The content of this field is kept private and will not be shown publicly.

Filtered HTML

  • Allowed HTML tags: <a href hreflang> <em> <strong> <cite> <blockquote cite> <code> <ul type> <ol start type='1 A I'> <li> <dl> <dt> <dd> <h2 id='jump-*'> <h3 id> <h4 id> <h5 id> <h6 id>
  • Lines and paragraphs break automatically.
  • Web page addresses and email addresses turn into links automatically.

Full HTML d8

  • You can align images (data-align="center"), but also videos, blockquotes, and so on.
  • Lines and paragraphs break automatically.
  • You can caption images (data-caption="Text"), but also videos, blockquotes, and so on.
  • Web page addresses and email addresses turn into links automatically.

Theme by Danetsoft and Danang Probo Sayekti inspired by Maksimer